दूर-दूर तक फैले हरेभरे ,
धान के खेतों के बीच खड़ा हूँ मैं,
मुझे कुछ आभास ही नहीं ,
ऐसा सुनने का अभ्यास ही नहीं
और तुम कहते हो –
मेरा एक पैर नेपाल में और दूसरा भारत में है।

कलकल करती कमला नदी में
नाव चला रहा हूँ मैं,
मुझे कुछ आभास ही नहीं
ऐसा सुनने का अभ्यास ही नहीं
और तुम कहते हो
मेरी नाव का एक सिरा नेपाल में
और दूसरा भारत में है।

मानसूनी बादलों को देख
अपनी ढोलकी पर बारहमासा गाते हुए
थाप दे रहा हूँ मैं,

तुम कहते हो अरे रे रे रूको
ढोलकी का एक कोना नेपाल में
और दूसरा भारत में हैं।

पर कोई मुझे ये तो बताओ
क्या कोई मेरी ढोलकी की ताल को
बह रही मदमस्त बयार को बाँट सकता है,

सदियों के दो मित्र भारत और नेपाल के
जंगलों पहाड़ों नदियों को
बाँटा जा सकता है मैदानों में
पर इनके आपसी विश्वास और सौहार्द को,
बहुत मुश्किल है बाँटना,
उतना ही मुश्किल है भारत और नेपाल की
मैत्री सुगंध को बाँधना,

हिमगिरि के उत्तुंग शिखरों के साये में
जहाँ बहती अनेक नदियों की धारा
आओ हम फिर मिलकर गाएँ
*मिले सुर मेरा तुम्हारा
तो सुर बने हमारा*

— लक्ष्मण नेवटिया, बिराटनगर

प्रतिक्रिया दिनुहोस
ताजा
सम्पर्क

हिपमत मिडिया हाउस प्रा.लि.
बिराटनगर-७ मोरड प्रदेश नम्बर -१
सूचना विभाग दर्ता नं.
१५१५/०७६/०७७

हाम्रो बारे

हिपमत मिडिया हाउस प्रा.लि. द्वारा संचालित  अनलाईन पत्रिकाले नेपालीको साझा आवाजको रुपमा आफ्नो सामाचार सम्प्रेषण गर्ने छ ।

टेलिफोन

कार्यालय – ०२१-५१७६७८
विज्ञापन – ९८०७३७०१०६
ई–मेल
[email protected]

सोसल मिडिया